UPTET Exam 2018 Date : यूपी टीईटी 2018 का जारी हुआ शेड्यूल, जानिये कब होगा एग्जाम, पढ़िये पूरी जानकारी

Government Jobs Sarkari naukri

लखनऊ.  उत्तर प्रदेश सरकार ने शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी uptet 2018 की समय सारिणी जारी कर दी है। यह परीक्षा 28 अक्टूबर को होगी। परीक्षा दो पालियों में आयोजित की जाएगी। यह माना जा रहा है कि परीक्षा का परिणाम नवंबर के अंत तक घोषित किया जाएगा। परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा में सफल 41556 को नियुक्ति पत्र पांच सितंबर को दिया जाना है।

ये है  UPTET 2018  का विस्तृत कार्यक्रम

शासन ने यूपी टीईटी 2018 का विस्तृत कार्यक्रम जारी कर दिया है। यह एग्जाम परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव उप्र इलाहाबाद द्वारा कराया जाएगा। टीईटी का विज्ञापन 15 सितंबर को और ऑनलाइन आवेदन के लिए पंजीकरण 17 सितंबर अपरान्ह से शुरू होगा। पंजीकरण की आखिरी तारीख तीन अक्टूबर शाम छह बजे तक है। जबकि आवेदन शुल्क चार अक्टूबर तक जमा होगा। आवेदन पूर्ण करने और उसका प्रिंट लेने की अंतिम तारीख पांच अक्टूबर शाम छह बजे तक है।

दो पारी में होगी परीक्षा

परीक्षा 28 अक्टूबर को होगी। पहली पारी सुबह 10 से 12.30 बजे तक प्राथमिक स्तर व दूसरी पारी 2.30 से 5.00 बजे तक में उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा होगी। अगले ही दिन सचिव वेबसाइट पर लिखित परीक्षा की उत्तर माला जारी करेंगी। परीक्षा परिणाम एक माह के अंदर यानी नवंबर माह के अंत तक घोषित किया जाएगा। परीक्षा देने के लिये 17 अक्टूबर अपरान्ह में प्रवेश पत्र वेबसाइट पर अपलोड होंगे।

दिसंबर में शिक्षक भर्ती परीक्षा

2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले प्रदेश में 95000 शिक्षकों की भर्ती की जाएगी। यूपीटीईटी का परिणाम आने के पहले ही शासन UP Shikshak Bharti की लिखित परीक्षा का आदेश जारी करेगा। बेसिक शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. प्रभात कुमार ने बताया कि दिसंबर के पहले सप्ताह में लिखित परीक्षा कराने की तैयारी है। एग्जाम ओएमआर शीट पर ही होगा। उन्होंने बताया कि काउंसिलिंग के बाद दिसंबर अंत तक नियुक्ति प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी।

38 प्रतिशत पद सामान्य वर्ग को मिलेंगे

बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 41556 सहायक अध्यापकों की भर्ती में 62 फीसदी आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को नौकरी मिलने जा रही है। सामान्य वर्ग के 38 प्रतिशत अभ्यर्थी ही इस भर्ती की रेस में शामिल हैं। सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को फायदा दिलाने के लिए 68500 लिखित परीक्षा का कट ऑफ 45/40 कर दिया गया। इसके चलते 33/30 अंक पाने वाले बड़ी संख्या में ओबीसी, एससी-एसटी वर्ग के अभ्यर्थी भर्ती की रेस से बाहर हो गए। इससे साफ है कि नौकरी की रेस में 62 प्रतिशत ओबीसी, एससी-एसटी वर्ग के बेरोजगार हैं।

 

Leave a Response